सफेद दाग (विटिलिगो) से जुड़े मिथक और उनकी हकीकत

0
869

क्यों होता है सफेद दाग यानी विटिलिगो?

अभी तक आपने लोगों को यह कहते सुना होगा कि मछली खाने के बाद दूध मत पीना, वर्ना सफेद दाग पड़ जाएंगे! लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। सफेद दाग, जिसे मेडिकल की भाषा में विटिलिगो कहा जाता है, असल में त्वचा से संबंधित एक रोग है जिसका खानपान से कोई संबंध नहीं है। तो आखिर क्या है सफेद दाग, इसके लक्षण, इससे जुड़े मिथक और इनकी हकीकत.

सफेद दाग के लक्षण

सफेद दाग के लक्षण

– त्वचा पर छोटा सफेद दाग जो समय के साथ बढ़ता जाता है, मुख्यतौर पर शरीर का वह हिस्सा जिस पर सीधे सूर्य की रोशनी पड़ती है।

– एक व्यक्ति जिसको पहले से ही सफेद दाग हो और उसी दाग पर चोट लग जाने से सफेद दाग बढ़ जाए, तो डॉक्टर के पास तुरंत जाना चाहिए।

– इस तरह के सफेद दागों में दर्द नहीं होता है और खुजली भी नहीं होती, लेकिन जब धूप में आते हैं, तो जलन होना शुरू हो जाती है।

– बालों का समय से पहले सफेद होना।

मिथक- मछली खाने के तुरंत बाद दूध पीने से सफेद दाग हो सकता है।

मिथक- मछली खाने के तुरंत बाद दूध पीने से सफेद दाग हो सकता है।

सच्चाई- विटिलिगो यानी सफेद दाग एक ऑटो इम्यून सिंड्रोम है, जो भोजन से संबंधित नहीं है। सर गंगा राम अस्पताल के डर्मेटॉल्जिस्ट डॉ रोहित बत्रा से जब इस बारे में सवाल पूछा गया तो उन्होंने इसे सिरे से नकार दिया और कहा कि मछली खाने के बाद दूध पीने से सफेद दाग पड़ने की बात पूरी तरह से मिथक है क्योंकि सफेद दाग असल में त्वचा से संबंधित एक रोग है।

मिथक- सफेद दाग वाले लोग मानसिक या शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं।

मिथक- सफेद दाग वाले लोग मानसिक या शारीरिक रूप से कमजोर होते हैं।

सच्चाई- विटिलिगो पूरी तरह से त्वचा तक सीमित है। यह शरीर के किसी अन्य अंग को मानसिक या शारीरिक रूप से प्रभावित नहीं करता।

मिथक- सफेद दाग एक प्रकार का कुष्ठ रोग है और दूसरे में भी फैलता है।

मिथक- सफेद दाग एक प्रकार का कुष्ठ रोग है और दूसरे में भी फैलता है।

सच्चाई- सफेद दाग कुष्ठ रोग से जुड़ा नहीं है। यह संक्रामक भी नहीं है। इसलिए स्पर्श, रक्त, संभोग, सांस लेना, निजी चीजों जैसे तौलिए को साझा करने या पीने के पानी के लिए एक गिलास का उपयोग करने से एक व्यक्ति से दूसरे तक पहुंच सकता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here