हनुमान चालीसा पढ़ने के नियम|Right Rule of Reading Hanuman Chalisa

0
620
hanuman_chalisa
hanuman_chalisa

हनुमान चालीसा एक हिंदू भक्ति स्तोत्र है जो भगवान हनुमान को संबोधित है। यह माना जाता है कि यह 16 वीं शताब्दी के कवि तुलसीदास द्वारा अवधी भाषा में लिखा गया है और यह रामचरितमानस के अलावा उनका सबसे प्रसिद्ध ग्रंथ है।

“चालीसा” शब्द ” चालीस” से लिया गया है, जिसका हिंदी में मतलब है चालीस नंबर, क्योंकि हनुमान चालीसा में 40 छंद हैं (शुरुआत और अंत में दोहे को छोड़कर)।

हनुमान चालीसा के बोल

Table of Contents

हनुमान चालीसा हिंदी में

यहाँ इस खंड में, हम 40 के श्लोक साझा कर रहे हैं   हनुमान चालीसा हिन्दी हिन्दी पाठकों और हिन्दी भक्तों के लिए (हिन्दी में हनुमान चालीसा)। हम हनुमान चालीसा हिंदी छवि भी साझा कर रहे हैं जिसे आप मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं और मित्रों और परिवार के साथ साझा करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

श्री हनुमान चालीसा जी का पूरण हिन्दी रूप निमन्लिखित है:

Hanuman Chalisa hindi images

हम हनुमान चालीसा इन्फोग्राफिक्स भी साझा कर रहे हैं जिसे आप मुफ्त में डाउनलोड कर सकते हैं और मित्रों और परिवार के साथ साझा करने के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं।

जब आप हनुमान चालीसा दैनिक पढ़ते हैं तो आप इसे बेहतर तरीके से सीख सकते हैं और इसे पूरा करने के लिए कम समय की आवश्यकता होती है। कोई भी व्यक्ति चाहे उनकी आयु कितनी भी हो, वह प्रतिदिन हनुमान चालीसा का  अभ्यास कर सकता है  । हम मानते हैं कि हम सभी को श्री हनुमान चालीसा का  प्रतिदिन पाठ करना चाहिए  ।

यदि आप इसे दिन-प्रतिदिन नहीं कर सकते हैं, तो लगातार 108 दिनों से कम समय के लिए इसे रोकने का प्रयास करें। यह आपको मुक्ति के रास्ते पर ले जा सकता है और आपको सभी बुराईयों से बचा सकता है।

हनुमान चालीसा पढ़ने के नियम- Right Rule of Reading Hanuman Chalisa

हनुमान चालीसा पढ़ते समय जरूर बरतें ये सावधानियां!

हमें नहा के रोजाना हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए लेकिन सबसे अच्छा समय इसे सुबह और शाम को पढ़ना है जब सूर्य की किरणें कम होती हैं और ठंडा मौसम यानी धूप और सूर्यास्त।

सबसे पहले, आप इसे कम समय में नहीं पढ़ सकते हैं, लेकिन दैनिक रीडिंग के बाद, आप कुछ ही मिनटों में हनुमान चालीसा का पाठ कर पाएंगे और आप निश्चित रूप से रीड का आनंद लेंगे और भगवान से जुड़ जाएंगे।

आपको इस पर गलत तरीके से चर्चा नहीं करनी चाहिए। जाहिर है, विश्वास के साथ समाप्त होने वाली कोई भी चीज निर्विवाद रूप से काम करेगी और साथ ही साथ चालीसा का सही संस्करण प्राप्त करने का प्रयास करेगी और इसे समझना शुरू करेगी। पूर्ण चालीसा पूरा करने के बाद आपको ओम का 108 बार जाप करना चाहिए ।

पहला नियम 

अक्सर लोगों को पूरी हनुमान चालीसा दोहराने में मात्र 2-3 मिनट ही लगते हैं। याद होने की वजह से कई लोग जल्‍दबाजी में वह चालीसा में लिखें कई पदों को गलत तरह से बोल जाते हैं। यह तरीका सही नहीं है। हनुमान चालीसा को शांत मन से बैठ कर एक पद को देख देख कर मुंह से बोल कर पढ़ना चाहिए। इससे आप चालीसा में लिखे हर पद को अच्‍छे से बोल सकेंगी। 

दूसरा नियम 

हनुमान चालीसा पढ़ने का दूसरा महत्‍वपूर्ण नियम है कि आप चालीसा को दिन में तीन बार पढ़ें। सबसे पहले आपको सुबह नहा कर साफ सुथरे कपड़े पहनने के बाद हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए और इसके बाद दोपहर में फिर रात में सोने से पहले भी एक बार हनुमान जी का पाठ करना चाहिए।

right way of reading hanuman chalisa

तीसरा नियम 

महिलाओं को हनुमान जी को छूना मना होता है क्‍योंकि वह ब्रह्मचारी थे। इसलिए महिलाएं न तो हनुमान जी को वस्‍त्र चढ़ा सकती हैं और न ही वे जल से हनुमान जी को स्‍नाना करा सकती हैं। मगर बिना जल चढ़ाए कोई भी पूजा अधूरी मानी जाती हैं इसलिए महिलाओं को हनुमान चालीसा का पाठ करने से पहले अपने सामने एक कलश में पानी भर कर रख लेना चाहिए और चालीसा पढ़ने के बाद उस जल को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर लेना चाहिए। 

चौथा नियम 

हनुमान चा‍लीसा का पाठ करते वक्‍त लाल रंग के वस्‍त्र पहनें और उन्‍हें गुड़ या बूंदी का प्रसाद चढ़ाएं। महिलाएं इस बात का भी ध्‍यान रखें कि हनुमान जी को प्रणाम करते वक्‍त सिर न झुकाएं क्‍योंकि हनुमान जी सभी महिलाओं को मां के स्‍थान पर रखते हैं। इसके साथ ही पूरे दिन मन ही मन ‘राम-राम’ का जाप करें। 

हनुमान चालीसा दैनिक पढ़ने के लाभ:

हनुमान चालीसा पढ़ते समय जरूर बरतें ये सावधानियां!

यहां हनुमान चालीसा का पाठ करने के कुछ लाभ दिए गए हैं:

  • केवल धर्म ही नहीं बल्कि विज्ञान भी कहता है कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से आंतरिक शांति मिलती है।
  • यदि आप इसे पहली सुबह के रूप में पढ़ रहे हैं तो आप यह सुनिश्चित करेंगे कि आपका पूरा दिन अच्छा गुजरे।
  • श्री हनुमान चालीसा को भय को दूर करने के तरीके के रूप में माना गया है और आपको हर मुद्दे से निपटने में मदद करता है जो लगभग असंभव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here